Home » Archive

Articles tagged with: poem

Written By: Usree Bhattacharya on April 16, 2009 2 Comments

अनाथ
अकेले
क्या
वे
मेरा इंतेज़ार करते हैं
कहीं मुझे बुला रहें हैं
उस अंधकार में?
वह एक गुफा है-
जहाँ वे
खेलते हैं
हंसते हैं
हर रोज़ उनकी सच्चाई
एक दर्द है
आशा का अंत है
जहाँ न माँ का प्यार
ना पिता का आशीर्वाद.
आज कल में बदलता है
कल परसो में.
क्या वे मुझे बुलाते हैं?

more→
  Copyright ©2009 Found in Translation, All rights reserved.| Powered by WordPress| WPElegance2Col theme by Techblissonline.com